प्रधानमंत्री मोदी का, जबरदस्त इंटरव्यू

साल 2019 की शुरुआत प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने एक इंटरव्यू से की. जिसमें उन्होंने एक न्यूज़ एजेंसी को दिए गए इंटरव्यू में हर मुद्दे पर खुलकर अपनी राय रखी. नरेंद्र मोदी सरकार अपने 5 साल पूरे कर रही है. ऐसे में उन्हें अपना रिपोर्ट कार्ड जनता के सामने लेकर आने की जरूरत थी. मोदी का इंटरव्यू सरकार के कामकाज और सभी आलोचनाओं के जवाब में था.
उन्होंने मुखर होकर सभी मुद्दों पर अपनी राय रखी और आने वाले लोकसभा चुनाव के लिए भारतीय जनता पार्टी की रणनीति पर बात की.
गठबंधन बेदम: मोदी ने कांग्रेस और अन्य पार्टियों के महागठबंधन को बेदम करार दिया है. उनके अनुसार यह गठबंधन लंबे समय तक चलने वाला नहीं है. ऐसे में जनता ऐसे लोगों के साथ कभी नहीं जाएगी. उन्होंने कहा कि देश की जनता ने सही दिशा और विकास का अंदेशा पहले से लगा लिया है. आगामी लोकसभा चुनाव गठबंधन और जनता के बीच रहने वाला है.
कांग्रेस की नियत पर शक: प्रधानमंत्री ने कहा कि कांग्रेस की नियत साफ नहीं नजर आ रही है. महागठबंधन में शामिल होने वाले सभी दल पहले कभी कांग्रेस के साथ थे. ऐसे में यह कोई नई बात नहीं है. वहीं कांग्रेस भी जरूरत के हिसाब से उनका इस्तेमाल कर रही है, हो सकता है समय आने पर फिर अलग-थलग हो जाए.
कर्जमाफी चुनावी स्टंट: कांग्रेस पार्टी के द्वारा किसानों की कर्ज माफी पर तंज कसते हुए, प्रधानमंत्री ने कहा कि किया चुनावी स्टंट है. कांग्रेस की नीतियों ने ही किसानों की यह स्थिति की है. इसके साथ ही उन्होंने इसे किसानों के साथ धोखा भी करार दिया.
जीएसटी और नोटबंदी बेहतर कदम: देश की अर्थव्यवस्था और टैक्स चोरी के खिलाफ यह बेहतर कदम है. उन्होंने नोटबंदी को काला धन पर बड़ी चोट करार दिया और इससे देश की मजबूत अर्थव्यवस्था होने की भी बात की. उन्होंने जीएसटी के बेहतर दूरगामी परिणाम आने की बात कही. विपक्ष के विरोध पर उन्होंने कहा कि यह उनकी सोच पर निर्भर करता है.
राम मंदिर कानून के दायरे में: राम मंदिर के निर्माण पर प्रधानमंत्री ने कहा कि वह सारी प्रक्रियाओं को ध्यान में रखते हुए राम मंदिर निर्माण पर आगे बढ़ेंगे. इसके साथ ही उन्होंने कांग्रेस पार्टी से कानूनी प्रक्रिया में सहयोग करने की भी मदद की बात कही.
राफेल सिर्फ हवा-हवाई: कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के द्वारा राफेल मुद्दे पर भ्रष्टाचार के आरोप पर बात करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि क्या सिर्फ हवाबाजी है. अगर उनके पास सबूत है तो वह लेकर सामने आए इस तरह से सरकार पर आरोप लगाना सही नहीं है.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने 95 मिनट के लंबे इंटरव्यू में हर मुद्दे पर खुल कर बात की. उन्होंने आने वाले लोकसभा चुनाव के लिए भी अपनी पार्टी की नीतियों और रण नीतियों पर चर्चा की. इसके साथ ही दोबारा भारतीय जनता पार्टी की वापसी का विश्वास दिलाया.